Saints show the path to life-Narendra Modi

0
197

संत के दर्शन ही जीवन जीने का सरल रास्ता दिखाता है-नरेन्द्र मोदी
अरविंद केसरी/ब्यूरो प्रमुख/क्लीन मीडिया टुडे

PM speaks for Ravi Das

वाराणसी 19 फरवरी:क्लीन मीडिया टुडेः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज यहां कहा कि आप के प्रतिनिधि के लिए सौभाग्य का पल है कि उसे देश के सामाजिक जीवन को दिशा देने और प्रेरित करने वालों की भूमि काशी आने का अवसर मिला है। संत के दर्शन ही जीवन जीने के सरल तरीके दिखाता है। ज्ञानी जनों ने ऐसे भारत की कल्पना की थी जहां बिना भेद भाव सबकी आवश्यकताओं का ध्यान रखा जाए। केंद्र सरकार ने पूरी भावना से इसे जमीन पर उतारने का प्रयास किया है।
Clean Media Today at the PM’s function at Saint Ravi Das Janm Sthal at Varanasi

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने सबका साथ सबका विकास के साथ सबको साथ लेकर चलने का प्रयास किया है। अबसे कुछ देर बाद बनारस में दो कैंसर अस्पताल सहित कई योजनाएं लोकार्पित करने जा रहा हूं।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि गुरु के दिखाए रास्ते पर हम चलते तो आज का भारत जातियों के नाम पर अत्याचार से मुक्त होता, मगर दुर्भाग्य से ऐसा हो ने सका।
मोदी ने कहा कि गुरुनानक देव की स्मृतियों को भी देश में संरक्षित किया जा रहा है।
प्रधानमंत्री ने लोगो से अपील करते हुए कहा कि हमें उन लोगों के स्वार्थ को पहचानना होगा जो राजनीतिक स्वार्थ के लिए जात पात को उभारते हैं।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जीवन आसान बनाने वाली अनेक परियोजनाएं आज से शुरू हो रही हैं। इनका लाभ समाज के हर वर्ग को मिलेगा। सरकार का हर कदम पूज्य गुरु रविदास की भावना के अनुकूल है। सभी की आर्थिक और पारिवारिक स्थिति सुधारने के लिए सरकार पहल कर रही है। अब किसान को छह हजार रुपये की सीधी मदद की जाएगी। ऐसी अनेक योजनाएं हैं जो समाज के उस वर्ग को उपर उठाने के लिए है जो वंचित थे। न कोई जात न कोई वर्ग न संप्रदाय। इससे ऊपर सभी को इन योजनाओं का लाभ मिले।
उन्होंने कहा, ‘‘मुझे भरोसा है कि यह लाभ अब मिल रहा है। संत यही चाहते थे। समाज में भेद न हो। उन्होंने कहा था जाति जाति में जाति है। जाति केले के पत्तों की तरह है। जातियों में भी जातियां हैं। ऐसे में जब तक जाति के नाम पर भेदभाव होगा। तब तक एक दूसरे से नहीं जुड़ पाएंगे। समरसता एकता नहीं आएगी।’’
गुरु के दिखाए रास्ते पर हम चलते तो आज का भारत जातियों के नाम पर अत्याचार से मुक्त होता। मगर दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हो सका। नया भारत इस स्थिति को बदलेगा। डिजिटल युवा सामाजिक बदलाव का हिस्सा बन रहे हैं। हमें उन लोगों के स्वार्थ को पहचानना होगा जो राजनीतिक स्वार्थ के लिए जात पात को उभारते हैं। एक और बुराई की ओर गुरु ने ध्यान दिलाया है।
उन्होंने कहा कि बेइमानी दूसरी बुराई है। दूसरे का हक मारना गलत है। सच्चा श्रम ही ईश्वर का रूप होता है। ईमानदारी की कमाई से सुख शांति मिलती है। साढ़े चार वर्षों में इसे ढालने का प्रयास सरकार ने किया है। नोटबंदी, बेनामी संपत्ति, काले धन पर वार किया गया है। भारत में यह चलता ह,ै इस तरह की मानसिकता थी। बेइमानी के लिए भ्रष्ट आचरण के लिए कोई स्थान नहीं। जो अपने श्रम से आगे बढना चाहता है सरकार उसके साथ खड़ी मिलेगी। हाल में आपने देखा होगा जो ईमानदारी से कर देते हैं। ऐसे करोडों मध्यम वर्ग के साथियों को पांच लाख रुपये तक की आय तक कर मुक्त कर दिया गया है। ईमानदारी का सम्मान किया जा रहा है। हम सभी भाग्यशाली हैं जिनको संतों का मार्ग दर्शन मिला है। गुरुओं का ज्ञान महान परंपरा पीढियों को रास्ता दिखाती रहे इसका प्रयास हो रहा है।
उन्होंने कहा कि मगहर, सारनाथ में पवित्र स्थानों को समृद्ध किया जा रहा है। गुरुनानक देव की स्मृतियों को भी संरक्षित किया जा रहा है। सबको सम्मान मिले इसके लिए सरकार समर्पित है। हमारी धरोहर शक्ति और प्रेरणा है।
इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने सीरगोवर्धन के पर्यटन विकास योजना का शिलान्यास किया। उनके साथ प्रदेश की पर्यटन मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी के साथ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पाण्डेय भी रहे।
इससे पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संत रविदास का दर्शन-पूजन किया। इसके बाद मंदिर परिसर में उन्होंने राज्यपाल राम नाईक व सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ संत शिरोमणि का दर्शन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here