PM Launches 10000 HP Electric Loco engine converted from the diesel engines

0
64

प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया का पहला डीजल से विद्युत में परिवर्तित 10000 अश्व शक्ति का ट्विन रेल इंजन राष्ट्रं को समर्पित किया
डा. सुषमा दीक्षित/संपादक एवं रितेश श्रीवास्तव/मुख्य संवाददाता

PM launches the news LOCO engine at Varanasi DLW

वाराणसी, 19 फरवरी:क्लीन मीडिया टुडेः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को दुनिया का पहला डीजल से विद्युत में परिवर्तित 10000 अश्व शक्ति:हार्स पावरः का ट्विन रेल इंजन राष्ट्र को समर्पित किया।
डीजल रेल इंजन कारखाना, वाराणसी में आयोजित लोकार्पण समारोह में प्रधानमंत्री ने इस उच्च अश्व शक्ति के मालवाहक डब्यूसी एजीसी-3 रेल इंजन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।
PM launches the news LOCO engine at Varanasi DLW

लोकार्पण से पूर्व प्रधानमंत्री ने रेल इंजन के बारे में आकर्षक प्रदर्शनी, वीडियो फिल्म एवं रेल इंजन कैब का अवलोकन किया। इस अवसर पर उत्त्तर प्रदेश के राज्यमपाल राम नाईक, मुख्योमंत्री योगी आदित्यनाथ, रेल एवं संचार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्हां एवं सांसद चन्दौली डॉ. महेन्द्र नाथ पाण्डेाय प्रमुख रूप से उपस्थित थे।
PM launches the news LOCO engine at Varanasi DLW

प्रधानमंत्री ने विद्युत रेल इंजन के निर्माण में लगे डीएलडब्यू , सीएलडब्यू एवं आरडीएसओ के कर्मचारियों तथा अधिकारियों को बधाई दी। प्रधानमंत्री का स्वागत सदस्य रेलवे बोर्ड घनश्याम सिंह एवं महाप्रबंधक, डीरेका श्रीमती रश्मि गोयल ने किया।
इस योजना के अंतर्गत डीजल इंजनों के स्थान पर विद्युत रेल इंजनों के निर्माण का निर्णय लिया गया। डीरेका ने इस दिशा में कदम बढ़ाते हुए विद्युत रेल इंजनों के निर्माण के साथ ही पुराने डीजल रेल इंजनों को भी विद्युत रेल इंजन में परिवर्तित करने का ऐतिहासिक कदम उठाया।
28 फरवरी, 2018 को डीरेका ने 2600 अश्व शक्ति वाले पुराने डीजल रेल इंजन को 5000 अश्व शक्ति के विद्युत रेल इंजन में रूपांतरित कर रेल इंजन की पहली इकाई का निर्माण किया। इससे ट्रैक्शन एचपी में 92 प्रतिशत की वृद्धि हुई । इस रेल इंजन की दूसरी इकाई 30 मार्च, 2018 को तैयार की गयी। इन दोनों इकाईयों को स्थाई रूप से जोड़कर डीरेका ने 10000 अश्व शक्ति क्षमता के ट्विन विद्युत रेल इंजन का निर्माण किया । विश्व में इतने अधिक अश्व शक्ति के डीजल से विद्युत में रूपांतरित रेल इंजन का सफलतापूर्वक निर्माण पहली बार करके डीरेका ने कीर्तिमान स्थापित किया। रेलवे बोर्ड के मार्गदर्शन में डीरेका ने चितरंजन रेल इंजन कारखाना एवं आरडीएसओ की मदद से यह कठिन और चुनौतीपूर्ण लक्ष्य हासिल किया है।
रूपांतरण के कार्य की संकल्पंना से निर्माण तक मात्र 69 दिनों के रिकॉर्ड समय में किया गया । इस रेल इंजन से पर्यावरण संरक्षण तो होगा ही राजस्व की भी बचत होगी ।
डीएलडब्ल्यू परिसर में बने हैलीपैड पर उतरने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत दिव्यांगजनों ने किया। प्रधानमंत्री मोदी ने भी उन सभी को स्नेह से अपने गले लगा लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डीजल रेल इंजन कारखाना में देश में पहली बार डीजल से विद्युत प्रणाली में परिवर्तित हुए इंजन को हरी झंडी दिखाई।
डीरेका पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने डीरेका कार्यशाला का निरीक्षण कर 10000 हार्सपावर के परिवर्तित लोकोमोटिव को हरी झंडी दिखाई। हेलीपैड पहुंचे प्रधानमंत्री का स्वागत डीरेका के परंपरागत तरीके से किया। यहां पीएम ने मिलने पहुंचे दिव्यांग छात्र पंकज राजभर, अभय राज शर्मा, सत्यप्रकाश और पारितोश वर्मा से मुलाकात की।
पंकज ने प्रधानमंत्री से दिव्यांगों को मिलने वाली सुविधाओं पर बात कर पैर छूने की कोशिश की इस पर मोदी ने उसे गले लगाकर दुलारा। पीएम से मिली दिव्यांग निशानेबाज सुमेधा ने पुलवामा शहीदों के परिवार की मदद के लिए पीएम फंड में 21000 रुपये का चेक भी दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here