PM dedicates schemes of development of worth Rs 3382.07 crores to Varanasi

0
167

प्रधानमंत्री ने वाराणसी को 3382 करोड़ रुपये की योजनाओं की सौगात सौंपी
डा. सुषमा दीक्षित /क्लीन मीडिया टुडे, संपादक एवं रितेश श्रीवास्तव /मुख्य संवाददाता

PM at Varanasi with bonanza of schemes worth over Rs 3000 crores

वाराणसी, 19 फरवरी:क्लीन मीडिया टुडेः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘वंदे भारत रेल’ का मजाक उड़ाने वाले विपक्षी दलों पर हमला बोलते हुए कहा कि विगत 4 से 5 वर्षों में भारतीय रेल की सूरत एवं सीरत बदलने के लिए तमाम कार्य किये गये हैं। सेमी हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत इसका उदाहरण हैं। उन्होंने कहा कि इतने वर्षों बाद ही सही भारत को विश्व स्तरीय ट्रेन मिली है। लेकिन कुछ लोगों द्वारा इसका मजाक उड़ाया जा रहा है। जो दुखद है। उन्होंने ऐसे मजाक उड़ाने वाले लोगों से लोगों को सतर्क रहने की आवश्यकता बतायी तथा ऐसे लोगों को जनता से सही समय पर सही सजा दिए जाने की भी जोरदार अपील की।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को वाराणसी मुख्यालय से लगभग 15 किमी0 दूर औढे़ गाँव में विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए यह बात कही।
PM at Varanasi with bonanza of schemes worth over Rs 3000 crores

उन्होंने अपना संबोधन की शुरूआत भारत माता की जयकार एवं काशी की परंपरागत हर-हर महादेव के गगनभेदी उद्घोष से की जिस पर जनता ने उनका गगन भेदी नारों से स्वागत किया।
उन्होंने कहा कि काशी के अपने सभी बंधु बहिनी लोगन के प्रणाम बा। हम सभी के आराध्य बाबा विश्वनाथ के चरणों में कोटि-कोटि प्रणाम। मा गंगा को प्रणाम! हम हर महादेव!
पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद काशी के वीर सपूत रमेश यादव को भी प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर श्रद्धांजलि दी।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सबसे पहले पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद काशी के वीर सपूत रमेश यादव को श्रद्धांजलि दी तथा कहा कि उनके साथ काशी की जनता है। प्रतिनिधि होने के नाते आप सभी की भावनाओं का भी प्रतिनिधि हूं। अपनी जान न्यौछावर करने वालों का कर्ज हमेशा रहेगा। उनका कर्ज चुकाने के लिए बाबा विश्वनाथ और मां गंगे से और आपसे आशिर्वाद मांगने आया हूं।
उन्होंने कहा कि स्वावलंबन के प्रतीक छत्रपति महाराज की जयंती भी है जिसके लिए पूरे राष्ट्र को शुभकामनाएं। उन्होंने कहा कि छत्रपति शिवाजी ने वह राह दिखाई जिससे हमारे देश का मार्ग प्रशस्त हो सके।
उन्होंने कहा कि आज काशी में तीन हजार करोड़ से अधिक रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण शिलान्यास किया गया है। डीरेका, सीरगोवर्धन, बीएचयू में परियोजनाओं का लोकार्पण शिलान्यास किया गया। यहां भी सामान्य नागरिकों के जीवन को सरल और सुगम बनाने वाली परियोजनाओं का लोकार्पण शिलान्यास किया गया है। इसकी सभी को बधाई।
उन्होंने कहा कि काशी को नए भारत की नई उर्जा का केंद्र बनाने में हम सफल हुए हैं।
ऐसे इंजन को हरी झंडी दिखाने का मौका मिला, जो डीजल से चलता था लेकिन वह अब बिजली से चलेगा। अब नए इंजन की ताकत भी डबल हो जाएगी। यह काम डीरेका में पहली बार हुआ है। पूरी दुनिया में ऐसा प्रयोग पहली बार हुआ।
मोदी ने कहा, ‘‘मेक इन इंडिया ने दुनिया में भारतीय इंजीनियरिंग का लोहा मनवाया यह काम मेरी काशी मे हुआ।’’
भारत के इंजीनियरों ने मेक इन इंडिया के प्रयोग से भारतीय इंजीनियरिंग का लोहा मनवाया है। रेलवे को और सशक्त और गति बढाने में मदद मिलेगी। इसके डिजाइन और निर्माण से जुड़े सभी लोगों को बधाई दी और कहा कि यह काम मेरी काशी और आपके बीच हुआ है।
उन्होंने कहा कि रेल की सूरत और सीरत बदलने का काम चार वर्षों में हुआ है। देश में पहली वंदे भारत एक्सप्रेस इसका बहुत बड़ा उदाहरण है। इससे जुड़ी कई चिटठी आई है। दशकों बाद ही सही मगर देश को विश्व स्तर की ट्रेन मिली है। इसका कुछ लोगों की ओर से मजाक बनाया गया है। लोग आहत हैं। मजाक उड़ाने की मानसिकता से देश के नागरिकों और नौजवान को सतर्क रहने की जरूरत है।
उन्होंने जनसैलाब से सवाल करते हुए पूछा कि बताइए वंदे भारत बनाने वाले इंजीनियरों से हमारा माथा ऊंचा हो रहा है? उनका अपमान करना उचित है क्या? क्या ऐसे मजाक उड़ाने वालों को माफ किया जा सकता है? उनको सजा मिलनी चाहिए कि नहीं?
मोदी ने कहा कि भारतीय रेल के इंजीनियर शीघ्र ही भारत में बुलेट ट्रेन भी बनाएंगे।
ऐसे दौर में जब राष्ट्र निर्माण में जी जान से जुटे हैं तो नकारात्मकता से घिरे इन लोगों से निराश होने की जरूरत नहीं है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि भारतीय रेल के इंजीनियर शीघ्र ही भारत में बुलेट ट्रेन भी बनाएंगे।
उन्होंने कहा कि रेलवे के इंजीनियरों के परिश्रम का परिणाम है कि रेल पटरियों को बिछाने और दोहरीकरण का काम दोगुनी गति से हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रयागराज और काशी के बीच भी काम पूरा हुआ है। मंडुवाडीह-लोहता-भदोही और भदोही- जंघई का दोहरीकरण हुआ है। स्टेशन पर भी विकास अब अनुभव किया जा सकता हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि रेलवे के साथ-साथ सड़कों की अनेक परियोजनाओं पर या तो कार्य पूर्ण हो चुके हैं या फिर की शुरुआत हो रही है। पंचक्रोशी मार्ग भी अब श्रद्धालुओं एवं जनसामान्य की सेवा के लिए तैयार है। सड़क, रेलवे के काम बनारस और आसपास हो रहे हैं। इससे आवाजाही आसान हो रही है। उससे किसान व व्यापारी को भी लाभ हो रहा है।
मोदी ने कहा कि अब बनारस में कैंसर का इलाज हो सकेगा तथा बिहार, झारखंड और मध्यप्रदेश के लोगों को इससे लाभ मिलेगा।
प्रधानमंत्री ने कहा कि बीएचयू को भी महामना के सपनों के मुताबिक शिक्षा और स्वास्थ्य का केंद्र बनाने की ओर अग्रसर हैं। सौ वर्षों के इतिहास पर डाक टिकट जारी हुआ है। बीएचयू में केंद्रीय अन्वेषण केंद्र, सुपर कंप्यूटिंग सेंटर ‘परम शिवाय’ की शुरुआत से मिशन को गति मिलेगी। भविष्य के लिए भी बाबा की भूमि शिक्षा देने वाली है।
उन्होंने कहा कि आज के जिन दो बहुत बड़े कैंसर अस्पतालों का लोकार्पण हुआ। उसमें एक बीएचयू और दूसरा लहरातारा में है। ये दोनों दस महीनों में बनकर तैयार हुए हैं। लहरातारा में जो केंद्र बना है वहां आधुनिक मशीन भी लगी है। पूर्वांचल में कैंसर के मरीजों को उपयुक्त इलाज के लिए दूसरे शहरों में जाना होता था। अब बनारस में कैंसर का इलाज हो सकेगा। बिहार, झारखंड और मध्यप्रदेश के लोगों को इससे लाभ मिलेगा।
पांडेयपुर में मजदूरों के लिए ईएसआई अस्पताल का लोकार्पण किया गया है इससे गरीब परिवारों के लिए लाभ होगा।
आयुष्मान भारत योजना से पांच लाख का इलाज फ्री मिलेगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में एक करोड़ बीस लाख परिवार हैं। जिसमें से अब तक 38 हजार लोगों को मुफ्त इलाज मिल चुका है। जबकि अभी योजना का 150 दिन भी पूरा नहीं हो सका है। उन्होंने कहा कि पैसे के अभाव में रहने वाले अब लाभ पा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने जनसैलाब से भावुक अपील करते हुए कहा कि आपका प्रधान सेवक आपकी सेवा करने में जुटा है। अनेक दिव्यांग जनों को जरूरी उपकरण भी आज उपलब्ध कराऊँगा। डीरेका में दिव्यांगों से मिला हूं। उनकी प्रतिभा से प्रभावित हूं। उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं। आसपास के क्षेत्रों के लिए भी काम हो रहा है। पर्यटन एवं स्मार्ट सिटी योजना से लेकर तमाम सुविधाएं बनारस की तस्वीर बदलने वाली है।
गोइठहा एसटीपी के शुरू हो जाने से अब गंगा में और गंदगी नहीं जाएगी। मां गंगा को निर्मल बनाने के लिए आप सभी ने जो प्रयास किए हैं उसकी प्रशंसा दुनिया कर रही है। काशी स्मार्ट बनेगी और परंपरा कायम भी रखेगी। उन्होंने कहा कि काशी के गौरव से जुड़े गंगा घाट के मान महल में वर्चुअल म्यूजियम बना है जो काशी की कला को प्रदर्शित करेगी। मोदी ने कहा कि देश के पशुधन को स्वस्थ बनाने के लिए सरकार के द्वारा मिशन शुरू किया गया है। बजट में राष्ट्रीय कामधेनु आयोग बनाने का फैसला लिया गया है। यहां बनारस में भी दो कान्हा सेंटर बनने वाले हैं। जिनका लाभ लोगों को मिलेगा।
मछली पालन से जुड़े लोगों के लिए भी कदम बढ़ाया गया है। मछली पालन से जुड़ा अलग विभाग बनाया जाएगा। इसके लिए साठ हजार करोड़ का बजट दिए जाने के साथ ही केसीसी से ऋण की व्यवस्था सरकार पहले ही कर चुकी है। उन्होंने कहा कि सरकार दो पटरियों पर बढ़ रही है। जिसमें पहला इंफ्रास्ट्रक्चर है और दूसरा आम नागरिकों के लिए सुविधा है। दोनों पर साथ चलते हुए सरकार ने जो बजट दिया है, उसके लिए काम किया गया है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जोर देते हुए कहा कि पांच एकड़ से कम जमीन वाले किसानों को लाभ दिया जाएगा। झूठ फैलाने और गुमराह करने वालों को जनता जवाब देगी। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि पहले दस साल में कर्ज माफी का ढिंढोरा पीटा जाता था, मगर उसमें भी लोगों को लाभ नहीं मिलता था। अब साढे सात लाख करोड़ रुपया सीधा किसानों के खाते में जा रहा है। इससे उत्त्तर प्रदेश के लगभग सवा दो करोड़ गरीब किसान परिवारों को लाभ मिलेगा। इससे किसान परिवार को साहूकार के पास नहीं जाना होगा। देश विकास की दो पटरियों पर दौड़ पा रहा है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस अवसर पर सोमनाथ गौड़ को बृद्धावस्था पेंशन, सुशीला कुमारी को दिव्यागजन पेंशन, संजू देवी को निराश्रित पेंशन, प्रभा देवी को अंत्योदय योजना, शारदा देवी को प्रधानमंत्री आवास योजना(ग्रामीण), माधुरी देवी को प्रधानमंत्री आवास योजना(शहरी), कृष्णा देवी को आयुष्मान भारत योजना, मनीता देवी को इलेक्ट्रॉनिक मल्लजर व संजय प्रजापति को इलेक्ट्रॉनिक चॉक उपलब्ध कराया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के लाभार्थियों कर्म शाह, शारदा देवी और माधुरी देवी को उनके आवासों का पत्र उपलब्ध कराते समय उनसे विस्तार से वार्ता भी की। इस दौरान शारदा देवी और माधुरी देवी के चेहरों पर आवास मिलने की खुशी साफ दिखाई दे रही थी तथा इसके लिए उन लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद भी दिया।
इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत का स्वरूप बदल दिया है।
योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री एवं काशी के सांसद नरेंद्र मोदी एक बार फिर विभिन्न योजनाओं के साथ गरीबों,किसानों, नौजवानों, दिव्यांगों और नागरिकों को सौगात देने के लिए आए हैं। उत्तर प्रदेश शासन और काशीवासियों की ओर से उन्होंने प्रधानमंत्री का जोरदार स्वागत किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के मार्ग दर्शन में काशी में विगत दिनों पंद्रहवां प्रवासी भारतीय दिवस संपन्न हुआ। काशी की सांस्कृतिक विरासत को दुनिया से आए सात हजार प्रवासी भारतीयों ने अपनी आंखों से देखा। काशी सैकड़ों वर्षों से विकास को तड़प रही थी। काशी ने यहां सांसद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुना और बदलती हुई काशी को लोगों ने देखा। उन्होंने कहा कि प्रयागराज में वर्तमान में कुंभ का आयोजन चल रहा है। जिसे देखने से लगता हैं कि गंगा की अविरलता और निर्मलता के लिए काम हुआ है। इसका हर भक्त आभास करता है।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विशेष रूप से जोर देते हुए कहां कि 2013 में प्रयागराज में कुंभ का आयोजन चल रहा था। उस समय मारीशस के प्रधानमंत्री प्रयागराज में डुबकी लगाने की इच्छा जताई थी। लेकिन न तो प्रयागराज में पानी रहा और न ही कोई व्यवस्था रहा। उस दौरान प्रयागराज में दुर्व्यवस्थाओ का आलम रहा और गंगाजल में दुर्गंध रहा। मॉरीशस के प्रधानमंत्री दूर से ही गंगा को नमन कर उन्होंने टिप्पणी की थी कि क्या यही गंगा हैं। आज गंगा की अविरलता और निर्मलता के प्रयास से गंगा में पर्याप्त जल है। मॉरीशस के प्रधानमंत्री विगत दिनों आए तो प्रयागराज में उनके साथ प्रतिनिधियों ने भी डुबकी लगाई और बदलते भारत को महसूस किया। प्रयागराज में अक्षय वट का सदियों बाद लोगों ने दर्शन किया। मुख्यमंत्री ने जोर देते हुए कहा कि वे विकास को बाधित नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि आदर्श उदाहरण है, गरीबों, किसानो, नौजवानों और समाज के विभिन्न वर्गों के लिए योजनाएं हैं।
उत्तर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय ने इस अवसर पर कहा कि हमारा सौभग्य है कि मोदी जी का आशिर्वाद हम सभी के उपर है।
जनसभा में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय ने कहा कि आज भारत के साथ ही विश्व भी आतंकवाद के खिलाफ उमड़ पड़ा है। पूरा विश्व प्रधानमंत्री मोदी के प्रयास को देख रहा है। उन्होंने कहा कि मोदी का मतलब है मैन आफ डेवलपिंग इंडिया।
रेल राज्य मंत्री एवं संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने कार्यक्रम में कहा कि प्रधानमंत्री जी के द्वारा विकास की ऐसी धारा देख काशी बम बम होगयी है।
केन्द्रीय रेल एवं संचार राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि यह सरकार शिलान्यास भी करती है और लोकार्पण भी करती है। रेल राज्यमंत्री ने जनभावना का उल्लेख करते हुए मंडुवाडीह स्टेशन का नाम बनारस किए जाने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इसका प्रस्ताव किये जाने की अपील की तथा कहा कि यह काशी की इच्छा है। विगत 4.5 वर्षों में वाराणसी में बढ़े स्वास्थ्य सुविधाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि नई दिल्ली और मुंबई की सुविधाएं वाराणसी में उपलब्ध हो रही हैं। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि देश की जनता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ खड़ी है।
इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशीवासियों को सौगात देते हुए 338207.18 लाख रुपए धनराशि की कुल 47 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। जिसमें 316736.32 लाख रुपए धनराशि की 39 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं 21470.86 लाख रुपए धनराशि की 8 परियोजनाओ का शिलान्यास शामिल है।
इनमें से 100000.00 लाख रुपए की महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर सेंटर, 35900.00 रुपए धनराशि की रेलवे का लोहता-भदोही डबलिंग (39 किमी0) व भदोही-जंघई डबलिंग(31किमी0)कार्य, 26838.00 लाख रुपए की जेएनएनआरएमयू अंतर्गत पेयजल सम्पूर्ति योजना प्रायरिटी-2(ट्रांस वरुणा), 22700.00 लाख रुपए की डिडक्शन आफ रेलवे इलेक्ट्रिफिकेशन आफ वाराणसी-इलाहाबाद सेक्शन, 21757.00 लाख रुपए की गोइठहा सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट, 17353.85 लाख रुपए की काशी इंटीग्रेटेड कमांड कंट्रोल सेंटर, 14984.00 लाख रुपए की रामनगर औद्योगिक क्षेत्र में 4 लाख लीटर दैनिक क्षमता का डेयरी फूड प्रोजेक्ट, 14000.00 लाख रुपए की होमी भाभा कैंसर हॉस्पिटल लहरतारा, 13979.00 लाख रुपए की जेएनएनआरएमयू अंतर्गत पेयजल सम्पूर्ति योजना प्रायरिटी-1 फेज-1, 7300.00 लाख रुपए की काशी हिंदू विश्वविद्यालय में केंद्रीय अन्वेषण केंद्र की स्थापना, 5383.21 लाख रुपए की कंस्ट्रक्शन ऑफ सुपर स्पेशियलिटी एंड कैसुअल्टी ब्लॉक्स आफ 150 बेडेड ईएसआईसी हॉस्पिटल पांडेपुर, 5000.00 लाख रुपए की डेडिकेशन ऑफ वाराणसी सिटी-मंडुवाडीह डबलिंग, 4480.00 लाख रुपए की सेकंड एंट्री, फोर्थ वाशिंग पिट एंड कोच गाइडेंस सिस्टम मंडुवाडीह स्टेशन, 3500.00 लाख रुपए की हरहुआ से राजातालाब तक 20 किलोमीटर पंचकोशी मार्ग का चैड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण, 3250.00 लाख धनराशि का सुपरकंप्यूटिंग सेन्टर आईआईटी(बीएचयू), 2970.59 लाख रुपए की अमृत योजना अंतर्गत शहर के 5 जोन में 47272 पेयजल गृह सयोजन, 2600.00 लाख रुपए की ऑगमेंटेड पैसेंजर फैसिलिटीज ऑन पीएफ, 1927.75 लाख रुपए की भोजूबीर सिंधोरा मार्ग – भोजूबीर से रिंग रोड तक चैड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण का कार्य, 1713.00 लाख रुपए की दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (नई योजना) के अंतर्गत जनपद वाराणसी में 403 मजदूरों के विद्युतीकरण का कार्य, 1555.00 लाख रुपए की वाराणसी शहर में इंस्टालेशन ऑफ हेरिटेज स्ट्रीट लाइट, 1101.00 लाखों रुपए की आनासीय अनुभूति संग्रहालय मान महल घाट, 1036.13 लाख रुपए की पंडित दीनदयाल उपाध्याय आश्रम पद्धति विद्यालय सातों महुआ, 920.00 लाख रुपए की लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा परिसर में 02 मेगावाट सोलर पावर प्लांट की स्थापना, 900.00 लाख रुपए की प्रोविजन आफ आईएमडब्लूपी सोलर पावर पैनल एट वाराणसी जंक्शन, 814.35 लाखों रुपए की पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय पांडेपुर का उच्चीकरण, 730.00 लाख रुपए की इंटीग्रेटेड रनिंग रूम कांप्लेक्स फॉर लोको पायलट एंड गॉर्ड एट वाराणसी जंक्शन, 682.51 लाख रुपए की आशापुर से म्यूजियम मार्ग की पटरी पर चैड़ीकरण इंटरलॉकिंग नाली तथा सर्फेस ड्रेसिंग आदि का कार्य, 564.98 लाख रुपए की वाराणसी जनपद के आराजीलाइन परिक्षेत्र में पशु चिकित्सा पॉलीक्लिनिक का निर्माण, 434.88 लाख रुपए की विजया सिनेमा से रविंद्रपुरी लंका मार्ग, 389.51 लाख रुपए की नगरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिवपुर, 379.03 लाख रुपए की वरुणापुल से लहुराबीर मार्ग के सतह सुधार का कार्य, 332.35 लाख रुपए की स्मार्ट सिटी अंतर्गत वाराणसी शहर के तीन पार्कों का सुंदरीकरण, 251.08 लाख रुपए की आसरा आवास योजना अकथा, 245.59 लाख रुपए की आसरा आवास योजना सरायडगरी, 243.21 लाख रुपए की आसरा आवास योजना ऐड़े, 160.00 लाख रुपए की 2 एक्सकैलटर्स एंड 1 लिफ्ट ऑन प्लेटफॉर्म 8 एवं 9 ऐट वाराणसी जंक्सन, 134.00 लाख रुपए की प्रभु घाट, निषादराज घाट एवं जैन घाट का पुनर्स्थापना कार्य, 118.64 लाख रुपए की आश्रय गृह योजना सिकरौल तथा 107.66 लाखों रुपए की आसरा योजना जोल्हा-बजरडीहा कार्य का लोकार्पण के साथ ही 6278.73 लाख रुपए की वाराणसी सिटी – सारनाथ रेलवे स्टेशन के मध्य पूर्वोत्तर रेलवे के सम्पार संख्या 23ए पर प्रस्तावित दो लेन (7.50 मीटर) रेल उपरिगामी सेतु का निर्माण कार्य, 4600.00 लाख रुपए की संत रविदास जी की जन्मस्थली सीरगोवर्धन का पर्यटन विकास फेज-1, 4460.16 लाख रुपए की संत रविदास जी की जन्मस्थली सीरगोवर्धन का पर्यटन विकास (फेज-1) भारत सरकार की प्रसाद योजना फेस-2 के अंतर्गत वाराणसी का पर्यटन विकास, 2550.00 लाख रुपए की एडिशनल (3तक) 10 एम वाइड एफओबी विथ मॉडर्न फैसिलिटीज इन्क्लूडिंग एस्केलेटर्स एंड लिफ्ट्स ऑन ईच प्लेटफॉर्म एट वाराणसी जंक्शन, 2100.00 लाख रुपए की कॉर्ड लाइन फॉर डायरेक्ट रिसेप्शन एवं डिस्पैच ऑफ ट्रेन्स फ्रॉम लोहता एंड बाईपास लाइन फॉर गुड्स ट्रेन फ्रॉम शिवपुर साइड, 760.35 लाख रुपए की वाराणसी जनपद के विधानसभा क्षेत्र सेवापूरी के ग्राम बरकी में प्रस्तावित राजकीय महाविद्यालय का निर्माण कार्य, 601.62 कान्हा पशु आश्रय योजना अंतर्गत शहशाहपुर में पशु शेल्टर होमध्काजी हाउस का निर्माण तथा 120.00 लाख रुपए की बृहद दो संरक्षण केंद्र मधुमक्खियां पिंडरा के निर्माण कार्य का शिलान्यास परियोजनायें प्रमुख हैं।
इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने 350 दिव्यांग जनों को 58 लाख 82 हजार धनराशि के 650 सहायक यंत्र तथा उपकरण वितरित किए। जिसमें 59 मोटराइज्ड ट्राईसाइकिल, 110 ट्राई साइकिल, 30 व्हीलचेयर, 163 बैसाखी, 60 स्मार्टफोन, 10 टेबलेट, 116 स्मार्ट केन, 43 डेजी प्लेयर, 60 बीटीई( कान की मशीन) तथा 03 कृत्रिम अंग व कैलीपर्स शामिल रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here